Election 2024: ई-कॉमर्स वेबसाइट पर खूब बिक रहे राजनीतिक पार्टियों की चुनाव सामग्री, इस तरह से ऑर्डर दे रहे लोग

Online Election materials of political parties: लोकसभा चुनाव के आते ही ई-कॉमर्स वेबसाइट पर भी राजनीतिक उत्साह दिख रहा है। इस प्लेटफॉर्म्स पर राजनीतिक दलों से संबंधित माल सबसे ज्यादा देखा जा रहे हैं।
ई-कॉमर्स वेबसाइट पर चुनावी सामानों की बिक्री।
ई-कॉमर्स वेबसाइट पर चुनावी सामानों की बिक्री।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। लोकसभा चुनाव के आते ही ई-कॉमर्स वेबसाइट पर भी राजनीतिक उत्साह दिख रहा है। इस प्लेटफॉर्म्स पर राजनीतिक दलों से संबंधित माल सबसे ज्यादा देखा जा रहे हैं। ये ऑनलाइन प्लेटफॉर्म चुनाव से संबंधित उत्पाद जैसे- BJP के ‘कमल’ से पुरानी समुद्री घड़ियों पर आम आदमी पार्टी (AAP) का चुनाव चिह्न झाड़ू, कांग्रेस के प्रसिद्ध चुनाव चिह्न आदि बिक रहे हैं। इसके लिए आपको किसी ई-कॉमर्स वेबसाइट पर राजनीतिक दल का नाम लिखना होगा। फिर झंडे से लेकर पेंडेंट (गले में पहना जाने वाला) और पेन तक कई तरह के सामान पेज पर दिखेंगे।

साल 2019 चुनाव से ट्रेंड में आया

एक ई-कॉमर्स वेबसाइट की प्रतिनिधि के मुताबिक यह प्रवृत्ति साल 2019 के चुनावों के दौरान उभरी। तब से ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म प्रचार माल और सहायक टूल के लिए पसंदीदा ऑप्शन बनता जा रहा है। उन्होंने बताया कि जब सब कुछ ऑनलाइन बिकता है तो यह क्यों नहीं। इसे हमारे प्लेटफॉर्म पर विक्रेता ही डालते हैं। ई-कॉमर्स वेबसाइटों को बस जांचना है कि यह नियमों का पालन करता है अथवा नहीं।

'मोदी का परिवार' से लेकर कई तरह की सामग्री

‘नमो’ मर्चेंडाइज वेबसाइट ‘मोदी का परिवार’, ‘फिर एक बार, मोदी सरकार’, ‘मोदी की गारंटी’, और ‘मोदी है तो मुमकिन है’ जैसे नारों से सजी टी-शर्ट, मग, लोटा, नोटबुक, बिल्ला, रिस्टबैंड (कलाई पर बांधा जाने वाला), चाभी का छल्ला, स्टिकर, चुम्बक, टोपी और कलम आदि उत्पादों की लंबी सीरीज है।

चुनावी सामग्रियों की बढ़ी बिक्री

ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर इन सामानों के आपूर्तिकर्ताओं में से एक ने बताया कि लोकसभा चुनावों में ऐसी वस्तुओं की ऑनलाइन बिक्री बढ़ी है। आपूर्तिकर्ता के मुताबिक “पहले, हमारी आपूर्ति दुकानों को होती थी, लेकिन ऑनलाइन खुदरा प्लेटफॉर्म्स की ओर झुकाव को देखकर हमें इसे अपनाना ठीक लगा।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.