Makar Sankranti: जानिए कब मनेगी मकर संक्रांति? पांच साल बाद बन रहा है ऐसा शुभ योग

मकर संक्रांति को लेकर सब कंफ्यूज़्ड हैं की 14 या 15 जनवरी, कब मनेगी मकर संक्रांति?, इस साल यह त्योहार सोमवार 15 जनवरी को मनाया जायेगा।
Makar Sankranti will be celebrated on 15 January
Makar Sankranti will be celebrated on 15 Januarywww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ़्तार डेस्क। मकर संक्रांति हिन्दुओं का प्रमुख त्योहारों में से एक हैं। ये त्योहार पौष मास में जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है, तब ये पर्व मनाया जाता है। इस साल मकर संक्रांति कन्फूशन में हर कोई था। तो आप को हम बता दे कीया त्योहार 15 जनवरी को मनाया जाएगा। मकर संक्रांति से ही ऋतु परिवर्तन भी होने लगता है। कहते है की इस दिन गंगा स्नान करने का एक अलग महत्व है। गंगा स्नान के बाद इस दिन कई प्रकार के दान करने का भी नियम बताया गया हैं।

पांच साल बाद बन रहा है ऐसा योग

मकर संक्रांति पुण्यकाल - 15 जनवरी सुबह 07 बजकर 15 मिनट से शाम 06 बजकर 21 मिनट तक, और महा पुण्यकाल -सुबह 07 बजकर 15 मिनट से सुबह 09 बजकर 06 मिनट तक मनाया जाएगा। इस बार पांच साल के बाद ऐसा सहयोग्य बन रहा हैं। जब सूर्य देव के साथ-साथ भगवान महादेव का भी आशीर्वाद प्राप्त होगा। मकर संक्रांति के दिन जल या गंगा जल में तिल दाल कर स्नान करना काफी शुभ माना जाता है।

मकर संक्रांति के दिन इन चीजों का करें दान, दूर होंगे सभी कष्ट

मकर संक्रांति के दिन आपकी जो भी श्रद्धा हो उसके अनुसार आप वस्त्र,अन्न और धन का दान कर सकते हैं। मकर संक्रांति के दिन तिल और खिचड़ी का दान बहुत ही शुभ माना गया है। वहीं दान का समय सुबह 7 बजे से सूर्यास्त पूर्व तक रहेगा। यह मुहूर्त दान आदि करने के लिए बेहद शुभ है। इस बार मकर संक्रांति 15 जनवरी को सुबह 7 बजे से शुरू हो जाएगा,जो सूर्यास्त शाम को 5 बजकर 36 मिनट तक रहेगा। इसमें स्नान, दान,जाप कर सकते हैं। मकर संक्रांति का महापुण्य काल प्रातः काल 7 बजे से प्रातः काल 8 बजकर 46 तक रहेगा।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.