Guruwar Mantra : गुरुवार के दिन देवी के इस रूप की पूजा से होगा जल्द विवाह, जानिए पूजा करने की विधि और मंत्र

Maa Katyayani : गुरुवार का दिन विष्णु भगवान को समर्पित है। लेकिन ऐसे बहुत लोग हैं जिन्हें यह नहीं पता कि गुरुवार के दिन मां कात्यायनी की पूजा करने से मनचाहा जीवनसाथी भी मिलता है।
Do Worship of Maa Katyayani on Thursday
Do Worship of Maa Katyayani on Thursdaywww.raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क 21December 2023 : हिंदू धर्म के अनुसार गुरुवार वार के दिन भगवान श्री विष्णु की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि गुरुवार को भगवान विष्णु की पूजा करने से मनचाहा फल मिलता है और घर में सुख शांति बनी रहती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अगर आपको एक अच्छा जीवनसाथी चाहिए तो उसके लिए आपको गुरुवार के दिन देवी मां की पूजा करना चाहिए और व्रत भी रखना चाहिए।आइए जानते हैं कि किस देवी की पूजा करने से जीवनसाथी का सुख मिलता है।

मां कात्यायनी की पूजा करने की विधि

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार विवाह में आ रही अड़चनों को दूर करने के लिए गरुवार के दिन मां दुर्गा के छठे रूप मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। धर्म ग्रंथों के अनुसार मां कात्यायनी का संबंध बृहस्पति से भी है।बृहस्पति देव को विवाह का कारक माना जाता है।गुरुवार के दिन पीले या लाल वस्त्र धारण कर मां की आराधना करें।कुमकुम, रोली, अक्षत, पीले पुष्प, हल्दी की गांठ, पीला नैवेद्य देवी को चढ़ाएं।घी का दीपक लगाकर मां के समक्ष इस मंत्रो का जाप करें।

इस प्रकार करें कात्यायनी मां के मंत्रो का जाप

  • ॐ कात्यायनी महामये महायोगिन्यधीश्वरी। नंद गोप सुतं देहि पतिं में कुरुते नम:।।

  • कात्यायनि महामाये महायोगिन्यधीश्वरि

  • नन्द गोपसुतं देविपतिं मे कुरु ते नमः ॥

  • ॐ ह्रीं कात्यायन्यै स्वाहा, ह्रीं श्रीं कात्यायन्यै स्वाहा ॥

माँ कात्यायनी मंत्रो के जाप की प्रक्रिया शुरू करने के लिए लाल रंग की चंदन जप माला तैयार करें। प्रक्रिया शुरू करते समय माता कात्यायनी की तस्वीर या मूर्ति अपने सामने रखना अच्छा माना जाता है, क्योंकि उन्हें लाल फूल अर्पित करना फायदेमंद होता है। इसके बाद पूरे भक्ति भाव के साथ कात्यायनी मंत्रो का जाप करने से कुंडली पर मांगलिक दोष का प्रभाव समाप्त हो जाता और विवाह के अच्छे अवसर प्राप्त होते हैं।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.