Mangalwar Mantra: बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए करें यह उपाय, इन मंत्रों का करें जाप

बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए कई तरह के उपाय और मंत्र शास्त्रों में बताए गए है।
Mantra of Hanuman
Mantra of Hanumanwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क।26 March 2024। हर मंगलवार को भगवान बजरंगबली की पूजा अर्चना की जाती है। लेकिन उनके कुछ ऐसे स्तुति के पाठ और उपाय हैं जिन्हें करने से आप एक ही मंगलवार में बजरंगबली को प्रसन्न कर सकते हैं।

राम स्तुति के पाठ से बजरंगबली होंगे प्रसन्न

  • श्रीरामचंद्र कृपालु भजमन हरण भव भयदारुणं।

  • नवकंज-लोचन, कंज-मुख, कर-कंज पद कन्जारुणं।।

  • कंदर्प अगणित अमित छबि, नवनील-नीरज सुन्दरं।

  • पट पीत मानहु तड़ित रूचि शुचि नौमि जनक सुतावरं।।

  • भजु दीनबंधु दिनेश दानव-दैत्यवंश-निकंदनं।

  • रघुनंद आनंदकंद कोशलचंद दशरथ-नन्दनं।।

  • सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु उदारू अंग विभूषणं।

  • आजानुभुज शर-चाप-धर, संग्राम-जित-खरधूषणं।।

  • इति वदति तुलसीदास शंकर-शेष-मुनि-मन-रंजनं।

  • मम ह्रदय-कंज निवास कुरु, कामादी खल-दल-गंजनं।।

  • मनु जाहिं राचेउ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सांवरो।

  • करुना निधान सुजान सीलु सनेहु जानत रावरो।।

  • एहि भांती गौरि असीस सुनी सिय सहित हियं हरषीं अली।

  • तुलसी भवानिही पूजि पुनी पुनी मुदित मन मंदिर चली।।

बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए करें यह उपाय

अगर आप बजरंगबली को प्रसन्न करना चाहते हैं। तो बजरंगबली के साथ-साथ आप राम भगवान की भी पूजा करें क्योंकि राम भगवान की पूजा करने से बजरंगबली प्रसन्न होते हैं।

बजरंगबाली जी को बूंदी का लड्डू अति प्रिय है इसीलिए मंगलवार और शनिवार को भगवान के मंदिर में बूंदी का लड्डू अवश्य चढ़ाएं इससे आपके हर कष्ट का नाश होता हैं।

बजरंगबली की हर मंदिर में सिंदूर तो अवश्य आपने देखा होगा इसीलिए हर मंगलवार और शनिवार को आप बजरंगबली को सिंदूर अर्पित कर सकते हैं। ऐसा करने से भगवान की कृपा आप पर बनी रहेगी।

हर मंगलवार तुलसी के पत्ते पर सिंदूर से श्री राम लिखकर अर्पित करें। इस उपाय से बजरंगबली की कृपा आप पर बनी रहती है और वह आपसे बेहद प्रसन्न होते हैं। ऐसा करने से आपकी सभी मनोकामनाएं भी पूरी होती है।

ॐ हं हनुमते नम:। यह बजरंगबली का सबसे शक्तिशाली मंत्र है। इसका हर मंगलवार 108 बार जब करें ऐसा करने से आपको दीर्घायु की प्राप्ति होती है। और भगवान की कृपा आप पर बनी रहती है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.