Guruwar Mantra: भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए इन मंत्रों का करें जाप, आज न करें गुरुवार व्रत की शुरुआत

गुरुवार का दिन भगवान विष्णु को समर्पित है। लेकिन कभी भी पौष महीने के गुरुवार से व्रत की शुरुआत नहीं करना चाहिए।
Mantra of Vishnu
Mantra of Vishnuwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 25 January 2024: हिंदू धर्म के अनुसार गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। कहते हैं कि अगर सच्चे मन से भक्त आज के दिन भगवान विष्णु का व्रत रखते हैं तो उनकी इच्छा पूरी होती है। आज के दिन केले के पौधे और बृहस्पति देव की भी पूजा की जाती है। वहीं कुछ मंत्र भी बताए गए हैं जिनके जब से आप भगवान विष्णु को प्रसन्न कर सकते हैं।

पौष के महीने में नहीं करते गुरुवार का व्रत

अगर आप पहली बार गुरुवार का व्रत करने जा रहे हैं तो यह अवश्य ध्यान दें। अपने पहले व्रत की शुरुआत पौष महीने के गुरुवार न करें। यह बहुत अशुभ माना जाता है। कहते है कि पुष्य नक्षत्र के दिन से ही गुरुवार व्रत की शुरुआत करनी चाहिए। इसके अलावा पौष को छोड़कर किसी भी मास के शुक्ल पक्ष के पहले गुरुवार से व्रत शुरू कर सकते हैं।

गुरुवार के दिन भगवान की पूजा के नियम और और मंत्र

अगर आप गुरुवार का व्रत रख रहे हैं तो प्रातः काल उठ जाएं। अच्छे से स्नान ध्यान करके भगवान की प्रार्थना करें और उनका स्नान करके वस्त्र फूल माला और तिलक लगाए। इसके बाद भगवान विष्णु के व्रत कथा का पाठ करें। और भगवान को भोग लगाकर उनकी आरती करके पूजा को समाप्त करें। आपको अपनी पूजा सफल बनाने के लिए कुछ चीजों का भी दान करना चाहिए। जैसे केला, पीली दाल, गुड़, पीले वस्त्र, मिठाई आदि।

इन मंत्रो का करें जाप

  • ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर। भूरि घेदिन्द्र दित्ससि।

    ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्। आ नो भजस्व राधसि।

  • शांताकारम भुजङ्गशयनम पद्मनाभं सुरेशम।

    विश्वाधारं गगनसद्र्श्यं मेघवर्णम शुभांगम।

    लक्ष्मी कान्तं कमल नयनम योगिभिर्ध्यान नग्म्य्म।

    वन्दे विष्णुम भवभयहरं सर्व लोकेकनाथम।

    ॐ नमोः नारायणाय नमः। ॐ नमोः भगवते वासुदेवाय नमः।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.