Shukrawar Mantra: घर में सुख समृद्धि पाने के लिए करें वैभव लक्ष्मी माता का व्रत, इन मंत्रों का भी करें जाप

Vaibhav Lakshmi: माता वैभव लक्ष्मी का व्रत शुक्रवार को किया जाता है। इस दिन सच्चे मन से पूजा पाठ करने से माता लक्ष्मी आपकी मनोकामना पूर्ण करती हैं।
Mantra of Vaibhav Lakshmi Mata
Mantra of Vaibhav Lakshmi Matawww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क। 26 April 2024।वैभव लक्ष्मी का व्रत रखने से धन संबधी किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है। माता लक्ष्मी सारी मनोकामना भी पूर्ण करती है। माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए पूजा के साथ-साथ इन मंत्रों का भी जाप करें। मां लक्ष्मी जल्दी प्रसन्न होती हैं और भक्तों पर अपनी कृपा बरसाती

पूजा विधि

वैभव लक्ष्मी का व्रत रखने के लिए आपको सबसे पहले माता के मन्दिर जाना है और व्रत का संकल्प लेना है। इसके साथ ही आप यह भी निश्चित करें कि 11 या 21 शुक्रवार आप व्रत रखेंगे। इसके बाद लाल या गुलाबी वस्त्र धारण करें। लकड़ी की एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर मां लक्ष्मी को विराजित करें। सफेद फूल, सफेद चंदन आदि अर्पित करने के बाद खीर का भोग लगाकर माता वैभव लक्ष्मी का पाठ करके आरती करें। की आरती करें।

इन मंत्रों का करें जाप

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नमः

वैभव लक्ष्मी के इस मंत्र का जाप 108 बार करने से व्यक्ति को लाभ मिलता है। और सभी मनोकामनाएं भी पूरी होती है।

धनाय नमो नमः

माता लक्ष्मी के इस मंत्र का जापआपको हमेशा करना चाहिए ऐसा करने से धन की कमी नहीं रहती।

ॐ लक्ष्मी नमः इस मंत्र के जाप सी केवल माता लक्ष्मी प्रसन्न होती है बल्कि आपके घर में उनकी दृष्टि सदैव बनी रहती है।

ॐ ह्रीं ह्रीं श्री लक्ष्मी वासुदेवाय नमः इस मंत्र का जाप किसी भी शुभ कार्य करने से पहले कर सकते हैं ऐसा करने से आपका कार्य सफल होगा।

या रक्ताम्बुजवासिनी विलासिनी चण्डांशु तेजस्विनी।

या रक्ता रुधिराम्बरा हरिसखी या श्री मनोल्हादिनी॥

या रत्नाकरमन्थनात्प्रगटिता विष्णोस्वया गेहिनी।

सा मां पातु मनोरमा भगवती लक्ष्मीश्च पद्मावती ॥

इस मंत्र के जाप से आप वैभव लक्ष्मी माता को जल्द प्रसन्न कर सकते हैं।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.