Somvar Mantra : शिव पुराण, नियम और पूजा विधि , सिर्फ पढ़ने से नहीं सुनने से भी मिलती है आशीर्वाद !!

Shiv Puraan : शिव पुराण में भगवान शिव की अनगिनत लीलाएं वर्णित हैं जो हमें धार्मिक उद्देश्य की प्राप्ति में मदद करती हैं।
Somvar Mantra
Somvar Mantrawww.raftaar.in

नई दिल्ली , 27 नवंबर 2023 : शिव पुराण हिंदू धर्म के महत्वपूर्ण ग्रंथों में से एक है, जिसमें कुल 7 भाग संहिता है। इस पुराण में शिव लीला की कथाएं, शिव पूजा के नियम, विधि और पुराण पाठ के लाभ सहित अनेक महत्वपूर्ण विषयों का वर्णन है।

कथाएं और उनका महत्व: शिव पुराण में भगवान शिव की अनगिनत लीलाएं वर्णित हैं जो हमें धार्मिक उद्देश्य की प्राप्ति में मदद करती हैं। इसमें शिवलिंग की उत्पत्ति, शिव भक्ति से संबंधित कथाएं और उनकी पूजा विधि भी दी गई है।

पुराण पाठ के लाभ: शिव पुराण का पाठ करने से शिव भक्तों को लोक और परलोक में सुख-शांति प्राप्त होती है। इसके पाठ से हम धार्मिक ज्ञान में सुधार कर अपने जीवन को महत्वपूर्ण दिशा में बदल सकते हैं।

आदिकाल से आज तक का महत्व: शिव पुराण ब्रह्मा की उत्पत्ति से लेकर कलियुग तक के कल्पों का वर्णन करता है, जिससे हमें अपने सृष्टिकर्ता का आभास होता है। इसमें उपदेश, उपासना, और धार्मिक सिद्धांतों का सुंदर संग्रह है।

शिव पुराण का पुण्यदायी समय: शिव पुराण का पाठ कभी भी किया जा सकता है, लेकिन सावन के महीने में इसका पाठ करना विशेष फलदायी माना जाता है। इस महीने में भगवान शिव की आराधना में लगने से भक्तों को अधिक पुण्य मिलता है।

शिव पुराण की कथाएं और उनका पाठ करने के नियम:

  • शिव पुराण की कथा श्रवण से पहले संकल्प करें कि आप ध्यानपूर्वक कथा का श्रवण करेंगे और मन को शिवजी में लगाए रखने का प्रयास करें।

  • कथा के दौरान निराहार रहने और सात्विक भोजन का सेवन करने पर ध्यान दें।

  • कथा के समापन पर शिव पुराण की पूजा करें और पंडित से पाठ करवा रहे हों तो उसे प्रणाम करके दान दक्षिणा दें।

शिव पुराण की कथा सुनने से संतानहीन, रोगी, और भाग्यहीन लोगों को भी शिवजी का आशीर्वाद मिलता है। इसलिए भक्ति भाव और श्रद्धा के साथ शिव पुराण की कथा का श्रवण करना चाहिए। मन में अविश्वास होने पर फल की प्राप्ति नहीं होती है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.