Shukrwar Mantra: धन प्राप्ति के लिए शुक्रवार को रखें मां लक्ष्मी का व्रत, घर में बनी रहेगी सुख और शांति

शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी के मंत्रों का जाप और व्रत करने से दरिद्रता और नकारात्मकता दूर होती है।
Lakshmi Mantra
Lakshmi MantraRaftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क। 22 March 2024। माता लक्ष्मी का व्रत रखने से व्यक्ति के घर में चल रही आर्थिक तंगी जल्द से जल्द दूर हो जाती है साथ ही उनको प्रसन्न करने के लिए ऐसे कई मंत्र है जिनका उपयोग करना चाहिए।

इस विधि अनुसार करें माता लक्ष्मी की पूजा

अगर आप लक्ष्मी माता का व्रत रखना चाहते हैं तो सुबह उठकर घर को साफ-सुथरा करें। उसके बाद स्नान करके स्वच्छ कपड़े पहनें और फिर 7,11 या 21 व्रत रखने का संकल्प करें। पूरे दिन मन में मां लक्ष्मी के मंत्रों का जाप करते रहें। दिन में नमक न खाएं सिर्फ फलाहार करें। इस दौरान जब शाम को आप माता लक्ष्मी की पूजा करें तो उन्हें खीर अवश्य चढ़ाएं क्योंकि माता लक्ष्मी को खीर बहुत पसंद है। भोग लगाने के बाद हाथ जोड़कर मां के सामने अपनी मनोकामना पूर्ण होने की विनती करें।

माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए करेंगे उपाय

जिस घर में साफ-सफाई अथवा स्वच्छता रहती है वहां मां लक्ष्मी विराजती हैं। इसीलिए घर में साफ सफाई का जरूर ध्यान रखें।

मां लक्ष्मी के समक्ष घी के दीये जलाना भी अच्छा होता है। कहते हैं इससे मां लक्ष्मी की कृपा मिलती है।

झाड़ू को मां लक्ष्मी का स्वरूप कहा जाता है। कहते हैं कि झाड़ू का अनादर करने से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं। इसीलिए झाड़ू को भी अच्छे से रखें उसे पर के नीचे ना दे।

माता लक्ष्मी मंत्र

ॐ ह्रीं ह्रीं श्री लक्ष्मी वासुदेवाय नम:

पद्मानने पद्म पद्माक्ष्मी पद्म संभवे तन्मे भजसि पद्माक्षि येन सौख्यं लभाम्यहम्

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नमः

ॐ धनाय नम:

ॐ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:

या रक्ताम्बुजवासिनी विलासिनी चण्डांशु तेजस्विनी।

या रक्ता रुधिराम्बरा हरिसखी या श्री मनोल्हादिनी॥

या रत्नाकरमन्थनात्प्रगटिता विष्णोस्वया गेहिनी।

सा मां पातु मनोरमा भगवती लक्ष्मीश्च पद्मावती ॥

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.