Shukrwar Mantra: माता लक्ष्मी और कुबेर के इन मंत्रों का जाप करने से दूर होगी दरिद्रता

शुक्रवार के दिन सच्चे मन से माता लक्ष्मी के साथ श्री कुबेर के मंत्र का भी जाप करना चाहिए।
Mantra of Laxmi Mata
Mantra of Laxmi Matawww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 1 March 2024: शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी को समर्पित है।माता लक्ष्मी के साथ भगवान कुबेर को भी पूजा करना चहिए भगवान कुबेर भक्तों की प्रार्थना से जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। इसलिए कुबेर मंत्र का जाप करने से आर्थिक परेशानी दूर हो सकती है।और घर से दरिद्रता भी दूर हो जाती है।

इस प्रकार करें पूजा

सबसे पहले सुबह स्नान करने के बाद पूजा स्थल तैयार करें। एक चौकी पर लाल रंग का कपड़ा बिछाकर गंगाजल छिड़कें। चौकी पर महालक्ष्मी और श्री कुबेर की प्रतिमा स्थापित करें।इसके बाद घी का दीपक, और अगरबत्ती जलाएं। पुष्प अर्पित करें और प्रतिमा पर लाल कुमकुम का तिलक करें। इसके बाद 108 मनकों की माला दाहिनें हाथ में लेकर जाप शुरू करें. इसके पश्चात मंत्र का उच्चारण करें।

इन मंत्रो का करें जाप

ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये, धनधान्यसमृद्धिं मे देहि दापय स्वाहा॥

भगवान कुबेर का यह सबसे प्रिय मंत्र है। इस मंत्र को प्रतिदिन कम से कम एक माला जाप करने से आर्थिक परेशानियां खत्म हो जाती हैं।

ॐ ह्रीं श्रीं क्रीं श्रीं कुबेराय अष्ट-लक्ष्मी मम गृहे धनं पुरय पुरय नमः॥

मंत्र माता लक्ष्मी और कुबेर देवता का माना जाता है। ऐश्वर्य, पद, प्रतिष्ठा, सौभाग्य की प्राप्ति के लिए इस मंत्र कल सुबह शाम जब करना चाहिए।

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नमः॥

इस मंत्र का जाप करने से आपके घर में सभी परेशानी ठीक हो जाती है और सुख शांति बनी रहती है।मंत्र का जाप करते समय आपका मुख दक्षिण दिशा में होना चाहिए।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.