Shukrwar Mantra: मां लक्ष्मी के इन प्रभावशाली मंत्रों का करें जाप, पैसों की तंगी से मिलेगा छुटकारा

माता लक्ष्मी को पैसों की देवी कहा जाता है। कहते हैं कि आर्थिक तंगी से छुटकारा पाने के लिए आपको माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना करनी चाहिए।
Mantra of Laxmi Mata
Mantra of Laxmi Matawww.raftaar.in

नई दिल्ली,रफ्तार डेस्क। 3 May 2024। आज के समय में हर इंसान आर्थिक तंगी से परेशान रहता है। ज्यादा खर्च और काम न बनने पर पैसों की कमी हो जाती है। किसी परेशानी को दूर करने के लिए आप शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना करके उन्हें प्रसन्न करें साथ ही उनके मंत्रों का भी जब करें।

पूजा विधि

मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए नियमित रूप से उनकी उपासना करनी चाहिए। शुक्रवार के दिन पूजा के समय माता लक्ष्मी को कमल के फूल चढ़ाएं कमल के फूल माता को बहुत प्रिय हैं। इसके बाद माता लक्ष्मी को स्मरण करके उनको जल अर्पित करना चाहिए। फिर सिंदूर पान सुपारी चढ़ाए। कोई भी पूजा बिना आरती के अधूरी होती है माता को भोग लगाकर आरती और आरती करें। आरती के बाद प्रार्थना करें कि वह आपको सुख शांति वृद्धि का वरदान दें।

मंत्रों का जाप कैसे करें

शुक्र मंत्रों का जाप शुक्रवार के दिन सुबह या शाम के समय करना चाहिए। मंत्रों का जाप किसी भी स्वच्छ स्थान पर बैठकर, साफ वस्त्र पहनकर, धूप-दीप जलाकर करना चाहिए। मंत्रों का जाप एकांत में करना चाहिए। मंत्रों का जाप करते समय मन को एकाग्र रखना चाहिए। इन मंत्रों का जाप कम से कम 108 बार करना चाहिए।

इन मंत्रों का करें जाप

ऊं ह्रीं त्रिं हुं फट-किसी भी कार्य में सफलता के लिए इस मंत्र का जाप करना चाहिए।

.श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं कमलवासिन्यै स्वाहा।-मां लक्ष्मी के इस मंत्र का जाप करने से हर तरह की कामनाएं पूर्ण हो जाती है।

.ॐ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:-अगर आप कर्जे से मुक्ति पाना चाहते हैं तो इस मंत्र का जाप करें।

.लक्ष्मी नारायण नम:-इस मंत्र का जाप करने से दाम्पत्य जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

.ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नम:-इस मंत्र का जाप 108 बार करने से व्यक्ति को लाभ मिलता है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.