Shaniwar Mantra: शनि देव को प्रसन्न करने के लिए इस प्रकार करें पूजा,जानिए पूजा की विधि और मंत्र

शनिवार भगवान शनि देव का माना जाता है इस दिन शनि देव की पूजा करके उनको प्रसन्न करने के कई सारे मंत्र और नियम बताए गए हैं।
Saturday is considered to be Lord Shani Dev
Saturday is considered to be Lord Shani Devwww.raftaar.in

नई दिल्ली,रफ्तार डेस्क 9 December 2023: शनिवार का दिन शनि देव का माना जाता है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार इस दिन शनि देव की पूजा करके उनको प्रसन्न किया जाता है। कहते हैं कि शनिदेव की कृपया बनी रहने से घर में सुख शांति रहती है। शनि देव को शनि देव को कर्मों का देवता भी कहा जाता है। जहां एक तरफ शनि के पूरे प्रभाव से जीवन में कई सारी कठिनाइयां आती है तो वहीं, शनि के अच्छे प्रभाव से आप के जीवन हर तरह खुशियां ही खुशियां होती हैं।

इस प्रकार करें शनि देव की पूजा

बहुत लोग शनि देव को प्रसन्न करना तो चाहते हैं। लेकिन वह पूजा की सही विधि नहीं जानते तो आज जानते हैं भगवान शनि देव को प्रसन्न करने की सही विधि।

शनिवार के दिन जल्दी उठे और स्नान करके घर के मंदिर में दीपक जलाएं। उसे दिन शनि देव को तेल अर्पित करें। तेल अर्पित करने के बाद उन पर फूल फल आदि चढ़कर उनकी आरती करें और शनि चालीसा का पाठ भी करें इसके बाद ऐसे कई मंत्र है जिनका जब भी करें। इस प्रकार शनि देव की पूजा करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं।

पूजा करते समय इन बातों का रखें ध्यान

कुछ मान्यताओं के अनुसार शनि देव की आंखों में नहीं देखना चाहिए। शनि देव की पूजा करते समय हमेशा अपनी नजरें नीचे रखें। शनि देव से नजरें मिलाने से आप पर शनि देव की बुरी नजर पड़ सकती है। जिसके कारण आपके जीवन में कई सारी कठिनाइयां आ सकती है। और पूजा बिल्कुल उनकी प्रतिमा के सामने खड़े होकर नहीं करनी चाहिए। शनिदेव के सामने कढ़े होकर पूजा करने से अशुभ फल मिल सकता है।

इन मंत्रो का जाप करके आप शनिदेव की बुरी दृष्टि से बच सकते हैं।

.बीज मंत्र-

ॐ शं शनैश्चराय नमः

. शनि का वेदोक्त मंत्र-

ॐ शमाग्निभिः करच्छन्नः स्तपंत सूर्य शंवातोवा त्वरपा अपास्निधाः

. श्री शनि व्यासविरचित मंत्र-

ॐ नीलांजन समाभासम्। रविपुत्रम यमाग्रजम्। छाया मार्तण्डसंभूतम। तम् नमामि शनैश्चरम् ।।

. शनिचर पुराणोक्त मंत्र-

सूर्यपुत्रो दीर्घदेही विशालाक्षः शिवप्रियः द

मंदचार प्रसन्नात्मा पीडां हरतु मे शनिः

शनि देव के इन शक्तिशाली मंत्रो का जाप करने से सारे कष्ट दूर होते हैं।और अच्छा फल मिलने के साथ-साथ धन का भी लाभ होता है। इन मंत्रो में से किसी एक मंत्र का 108 बार जाप करें।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करेंwww.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.