Shaniwar Mantra : दुखों से छुटकारा पाने के लिए शनिवार को करें ये उपाय, मिलेगा शनि देव का आशीर्वाद भी

Shanidev Mantra : शनि देव, नौ ग्रहों में एक हैं और उनका प्रभाव व्यक्ति के जीवन में गहरा होता है। शनि देव का पूजन करने से दुखों से मुक्ति होती है और जीवन में स्थिरता आती है।
Shaniwar Mantra
Shaniwar Mantrawww.raftaar.in

नई दिल्ली , 30 सितम्बर 2023 : शनिवार, हिन्दू पंचांग में शनि देव के दिन के रूप में उचित पूजन और व्रत के लिए चुना जाता है। शनि देव, नौ ग्रहों में एक हैं और उनका प्रभाव व्यक्ति के जीवन में गहरा होता है। शनि देव का पूजन करने से दुखों से मुक्ति होती है और जीवन में स्थिरता आती है। इस खास दिन को और भी पवित्र बनाने के लिए हमें कुछ छोटे-से कामों को करना चाहिए।

1. शनि देव की पूजा: शनिवार को शनि देव की पूजा करना बहुत ही महत्वपूर्ण है। शनि देव की पूजा से उनका क्रोध शांत होता है और वे अपने भक्तों पर अपनी कृपा बनाए रखते हैं।

2. तिल का दान: शनि देव को तिल का बहुत प्रिय है। इसलिए शनिवार को तिल का दान करना चाहिए। यह शनि देव के क्रोध को शांत करने में मदद करता है और उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।

3. नीला तिल का उपयोग: शनिवार को शनि देव का विशेष उपहार माना जाता है। इसलिए नीला तिल का उपयोग करके शनि देव की मूर्ति को सजाना चाहिए। यह उनको प्रसन्न करने का एक उत्तम तरीका है।

4. शनिवार की कठिनाईयों का सामना: शनिवार को हमें अपनी जीवन में आ रही कठिनाईयों का सामना करने का साहस करना चाहिए। शनि देव हमें उन कठिनाईयों से पार करने की शक्ति प्रदान करते हैं और हमें सफलता की दिशा में मार्गदर्शन करते हैं।

5. ध्यान और मौन व्रत: शनिवार को हमें ध्यान और मौन व्रत रखना चाहिए। इससे हमारी मानसिक शक्ति बढ़ती है और हम अपने लक्ष्यों की प्राप्ति में सफल होते हैं।

इस रूप में, शनिवार को शनि देव की पूजा के साथ-साथ ये छोटे-से काम हमें दुखों से मुक्ति के पथ पर आगे बढ़ने में सहायक हो सकते हैं। यह नहीं केवल हमारे भविष्य को उजवल बनाए रखता है, बल्कि हमें सांसारिक और आध्यात्मिक दृष्टि से भी समृद्धि प्रदान करता है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.