Sunday Mantra
Sunday Mantrawww.raftaar.in

Ravivar Mantra : इस तरीके से पढ़ें आदित्य - हृदय - स्त्रोत ,भगवान सूर्य होंगे प्रसन्न

Lord Surya : आदित्य ह्रदय स्तोत्रम एक शक्तिशाली स्तोत्र है जो सूर्य देवता को समर्पित है। इस स्तोत्र का पाठ करने से सूर्य देवता की कृपा और जीवन में सुख, समृद्धि और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

नई दिल्ली , 28 अगस्त : आदित्य हृदय स्त्रोत , जो सूर्यदेव की महिमा और शक्ति का वर्णन करता है, एक प्राचीन वेद मंत्र है जिसे भगवान सूर्य की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए पढ़ा जाता है। यह मंत्र वेदों में स्थित है और यह माना जाता है कि इसके पाठ से मन और शरीर को ऊर्जा, शक्ति और सुख मिलता है। आदित्य हृदय स्त्रोत को पढ़ने के लिए कुछ महत्वपूर्ण तरीके हैं जिनका पालन करके आप इसके अद्भुत लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

कैसे पढ़ें:

  1. ध्यान से पढ़ें: आदित्य हृदय स्त्रोत को पढ़ते समय ध्यान से पढ़ने का प्रयास करें। मंत्र के प्रत्येक शब्द को समझने का प्रयास करें ताकि आप उसके अर्थ को समझ सकें।

  2. वाचा स्वाध्याय: आदित्य हृदय स्त्रोत को स्वाध्याय रूप में पढ़ने का प्रयास करें। यानी कि आप इसे आत्म-अध्ययन के रूप में पढ़ सकते हैं, ताकि आपका मन शांत रहे और आप आत्मशक्ति प्राप्त कर सकें।

कब पढ़ें:

  1. सूर्योदय के समय: आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ सूर्योदय के समय करने से उसके अद्भुत प्रभाव को बढ़ावा मिलता है। सूर्योदय के समय मन स्थिर होता है और आपकी ध्यान शक्ति भी बढ़ती है।

  2. संध्या काल: आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ संध्या काल में भी किया जा सकता है। यह आपके दिन की कठिनाइयों को दूर करके शांति और सफलता की दिशा में मदद कर सकता है।

    किस भगवान के लिए पढ़ें: आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ भगवान सूर्य की उपासना के लिए किया जाता है। भगवान सूर्य जीवन की ऊर्जा का प्रतीक होते हैं और उनकी कृपा से सभी कष्टों का नाश होता है। उनकी प्रसन्नता से मन और शरीर स्वस्थ रहता है और व्यक्ति की उन्नति होती है।

आदित्य हृदय स्त्रोत को ध्यान से पढ़ने के बाद आपका मन और आत्मा प्रसन्न होते हैं और आपकी शक्तियों में वृद्धि होती है। इसे सच्चे मन से पढ़ने से आप जीवन में सकारात्मकता, समृद्धि और सुख की प्राप्ति कर सकते हैं।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.