Ravivar Mantra: माता दुर्गा के इन मंत्रों के जाप से दूर होगी दरिद्रता

रविवार के दिन माता दुर्गा की पूजा अर्चना करने से माता की कृपा बनी रहती है। और उनके कुछ चमत्कारी मंत्रों के जाप से सारे कष्ट से मुक्ति मिलती है।
Mantra of Durga Maa
Mantra of Durga Maawww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क।3 मार्च 2024। रविवार का दिन सूर्य भगवान को समर्पित है। एक दिन भक्त सूर्य भगवान की पूजा अर्चना करके उनका आशीर्वाद लेते हैं। लेकिन रविवार के दिन ही मां दुर्गा की भी पूजा की जाती है। और माता के कुछ चमत्कारी मंत्रों के जाप से उन्हें प्रसन्न किया जाता है।

माता दुर्गा की पूजा विधि

रविवार के दिन माता दुर्गा की पूजा करने वालों के जीवन की सभी परेशानियां खत्म होती हैं। इस दिन प्रात काल उठे और स्नान करके माता रानी के मंदिर जाएं। माता रानी को जल अर्पित करके उन्हें चुनरी चढ़ाएं।और फल फूल माला चढ़कर उनकी पूजा शुरू करें। माता रानी को घी का दीपक जलाएं। कपूर की आरती करें और चढ़ाया हुआ प्रसाद सबको दें और स्वयं भी ग्रहण करें। लाल रंग मां दुर्गा को अत्यधिक प्रिय है।इसलिए इस दिन मां दुर्गा की पूजा में लाल पुष्प और लाल चूड़ियां सिंदूर आदि भेंट करना चाहिए।

इन मंत्रों का करें जाप

ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै: माता दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए यह सबसे सरल मंत्र है। इस मंत्र का जाप आपको रोजाना एक माला या उससे अधिक करना चाहिए।

ॐ ह्रीं दुं दुर्गायै नम: इस मंत्र का 108 बार जाप करना चाहिए। ऐसा करने से माता रानी प्रसन्न होती है और आपके मन मुताबिक फल देती हैं।

ऊँ ह्रीं दुं दुर्गायै नम: यह माता रानी का बीज मंत्र है। बहुत प्रयासों के बाद भी अगर व्यक्ति कर्ज में डूबा है और अपना कर्ज नहीं चुका पा रहा है तो इस मंत्र के जाप से माता रानी प्रसन्न होती है और कर्ज से उसे मुक्ति दिलाती है।

सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते।। इस मंत्र के जब से माता रानी प्रसन्न होती है। और घर में चल रही आर्थिक परेशानी का नाश होता है। और घर में सकारात्मक ऊर्जा का पास भी होता है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.