Guruwar Mantra: भगवान विष्णु को यह सामग्री चढ़ाकर और इन मंत्रों द्वारा करें प्रसन्न

भगवान विष्णु की पूजा करते समय पूजा की सामग्री चढ़ाकर और इन मंत्रों का जाप भी करें। ऐसा करने से भगवान जल्दी प्रसन्न होते हैं।
Mantra of Vishnu
Mantra of Vishnuwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 15 February 2024: भगवान विष्णु सभी के पालनहार है। गुरुवार के दिन उनकी अच्छे से विधि अनुसार पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से भगवान प्रसन्न होते है और सारे कष्ट हर लेते है। पूजा करते समय ऐसी कई सामग्री होती है। जिसे हमें भगवान को चढ़ाना चाहिए। वहीं कुछ मंत्र के जाप भी होते हैं जिन्हें जपना चाहिए।

पूजा करते समय इन सामग्री का करें उपयोग

भगवान की पूजा करते समय हमें इन सामग्रियों का इस्तेमाल करना चाहिए। भगवान विष्णु को खीर अति प्रिय है इसीलिए उनको खीर का भोग अवश्य लगाएं।

भगवान कि भगवान का मंत्र का जाप और आरती करने के बाद तुलसीकृत जलामृत व पंचामृत चढ़ाएं।

भगवान को केला का फल बहुत पसंद है। इसीलिए आप जब भी गुरुवार के दिन पूजा करें तो केले का फल अवश्य रखें। और कोशिश करें की आप गुरुवार के दिन पीला कपड़ा ही पहनकर पूजा करें।

गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा करते समय दीपक जलाकर उसमें सफेद या काला तिल डालें ऐसा करने से भगवान जल्दी प्रसन्न होते हैं।

पूजा विधि

सबसे पहले भगवान गणेश की पूजा करें। फिर उसके बाद विष्णु भगवान की पूजा शुरुआत करें।सबसे पहले भगवान का स्‍मरण करते हुए उनका आसान दे उनको स्नान कराएं, इसके लिए पहले जल से फिर पंचामृत से और पुन: जल से स्नान कराएं। इसके बाद भगवान को वस्त्र पहनाएं। इसके पुष्प की माला पहनाकर तिलक करें। अब धूप व दीप प्रज्‍वलित करें। विष्णु जी को तुलसी अत्‍यंत प्रिय है अत: तुलसी अवश्‍य अर्पित करें। इसके बाद भगवान को खीर का भोग लगाकर उनकी आरती करें।

भगवान विष्णु के इन मंत्रों का करें जाप

  • श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे। हे नाथ नारायण वासुदेवाय।।

  • ॐ नमो नारायण। श्री मन नारायण नारायण हरि हरि।

  • ॐ नमो भगवते वासुदेवाय

  • ॐ विष्णवे नम:

  • ॐ नमो नारायण। श्री मन नारायण नारायण हरि हरि।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.