Ravivar Mantra: लालफूल चढ़ाकर सूर्य भगवान को इन मंत्रों से करें प्रसन्न

सूर्य भगवान को लाल फूल अति प्रिय है इसलिए अर्थ देते समय उनको लाल फूल ही अर्पित करें साथ ही उनके कुछ चमत्कारी मंत्रों का जाप करें। ऐसा करने से वह जल्दी प्रसन्न होते हैं।
Mantra of Suryadev
Mantra of Suryadevwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 18 February 2024: रविवार के दिन सूर्य भगवान की पूजा करते समय आपको हमेशा लाला फूल चढ़ाना चाहिए क्योंकि भगवान को लाल फूल अति प्रिय है। ऐसा करने से व्यक्ति को आयु , विद्या,यश, बल ,सब हासिल होता है। शास्त्रों में भी सूर्य देवता को जल चढ़ाने का विशेष महत्व बताया गया है। साथ ही उनके मंत्रों का भी जाप करना चढ़ाए।

इस तरह करें सूर्य भगवान की पूजा

रविवार के दिन आपको सूर्योदय से पहले उठकर स्नान कर लेना चाहिए। इसके बाद तांबे के लोटे में सिंदूर अक्षत और लाल फूल डालकर आप सूर्य भगवान को जल अर्पित करें।इसके बाद पूजा के चौकी में लाल रंग का कपड़ा रखकर सूर्य देव की तस्वीर स्थापित करें। भगवान को रोली, अक्षत, सुपारी, फूल आदि चढ़ाएं. फल व मिष्ठान का भोग लगाएं और फिर धूप दिखाएं।अब रविवार की व्रत कथा पढ़े या सुने। अंत में सूर्य देव की आरती जरूर करें।

जल चढ़ाते समय आपको इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि जब आप सूर्य देव को जल चढ़ाएं तो सूर्योदय के समय ही जल चढ़ाना चाहिए।

अक्सर चल चढ़ाते समय हम कोई भी लोटा या बर्तन ले लेते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि जल चढ़ाते वक्त हमेशा तांबे के लोटे का इस्तेमाल करें।

अगर आप सूर्य भगवान को जल चढ़ा रहे हैं तब आपका मुख पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए।

जल अर्पित करते से तांबे के लोटे में अक्षत, रोली, फूल इत्यादि डाल दें, उसके बाद सूर्य भगवान को जल चढ़ाएं।

सूर्य को जल देते समय 'ऊं आदित्य नम: मंत्र या ऊं घृणि सूर्याय नमः' मंत्र का जाप करें।

इन मंत्रों का करे जाप

ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः।

ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय सहस्रकिरणराय मनोवांछित फलम् देहि देहि स्वाहा।।

ॐ ऐहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजो राशे जगत्पते, अनुकंपयेमां भक्त्या, गृहाणार्घय दिवाकर:।

. ॐ ह्रीं घृणिः सूर्य आदित्यः क्लीं ॐ।

ऊं घृ‍णिं सूर्य्य: आदित्य:।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.