Guruwar Mantra: गुरुवार के दिन पीले कपड़े पहनने का महत्व

Shri Vishnu Mantra: हम किसी भी दिन कोई भी कपड़े पहन लेते है। लेकिन क्या हम जानते हैं कि गुरुवार के दिन पीले कपड़े पहनने का क्या महत्व है।
Lord Vishnu favorite color is Yellow
Lord Vishnu favorite color is Yellowwww.raftaar.in

नई दिल्ली,रफ्तार डेस्क 14 December 2023 एक सप्ताह में पूरे सात दिन होते हैं और सातों दिन के अलग-अलग भगवान है। वहीं गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और बृहस्पति देव की पूजा होती है। वहीं ऐसी मान्यताएं हैं कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से करियर में लाभ होता है। और घर में सुख-समृद्धि लाने के लिए भगवान विष्णु की आराधना की जाती हैं। इतना ही नहीं विष्णु भगवान को प्रसन्न करने के लिए भक्त गुरुवार को व्रत भी करते हैं।

गुरुवार के दिन इसलिए पहनते हैं पीले कपड़े

भक्त भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए गुरुवार को उनकी विशेष पूजा अर्चना करते हैं इसलिए पहनते हैं पीले कपड़े। अक्सर हम देखते हैं कि गुरुवार के दिन लोग पीला कपड़ा धारण करते हैं। हमारे मन में कई बार यह सवाल आता है कि गुरुवार के दिन पीला कपड़ा ही क्यों धारण किया जाता है। गुरुवार के दिन पहले रंग का खास महत्व है। दरअसल गुरुवार के दिन पीले कपड़े को शुभ माना जाता है। और किसी भी शुभ कार्य में अधिकतर पीला कपड़ा ही इस्तेमाल किया जाता है। वहीं, अगर आप गुरुवार के दिन पीले कपड़े पहनते हैं तो इससे भगवान विष्णु काफी प्रसन्न होते हैं, ऐसा इसलिए क्योंकि भगवान विष्णु को पीला रंग बहुत ज्यादा पसंद है। यही कारण है कि भक्त गुरुवार के दिन पीले कपड़े पहनकर भगवान विष्णु की आराधना करते हैं।

इन मंत्रो के जब से करें भगवान विष्णु को प्रसन्न

भगवान विष्णु की पूजा आराधना तो हम करते ही हैं लेकिन अगर किसी की कुंडली में बृहस्पति ग्रह कमजोर है तो भगवान विष्णु पूजा और कुछ मित्रों के जाप करने से बृहस्पति ग्रह मजबूत हो जाता है।

भगवान विष्णु के या प्रभावशाली मंत्र

  • ॐ नमो भगवते वासुदेवाय

  • श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे। हे नाथ नारायण वासुदेवाय।।

  • ॐ नारायणाय विद्महे। वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।।

  • ॐ विष्णवे नम:

  • ॐ हूं विष्णवे नम:

  • ॐ नमो नारायण। श्री मन नारायण नारायण हरि हरि।

भगवान विष्णु के सरल मंत्र

  • ॐ अं वासुदेवाय नम:

  • ॐ आं संकर्षणाय नम:

  • ॐ अं प्रद्युम्नाय नम:

  • ॐ अ: अनिरुद्धाय नम:

  • ॐ नारायणाय नम:

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.