Mantra of Shukr Grah & Lakshmi Mata
Mantra of Shukr Grah & Lakshmi Mata www.raftaar.in

Shukrwar Mantra: माता लक्ष्मी की पूजा के साथ करें शुक्र ग्रह के इन मंत्रों का जाप

शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। लेकिन अगर आपका शुक्रिया ग्रह कमजोर है तो आपको आर्थिक परेशानी होती है। इसीलिए शुक्रवार को शुक्र ग्रह की भी पूजा की जाती है।

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 16 February 2024: माता लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है। माता लक्ष्मी की पूजा से आपके जीवन में पैसों की कमी नहीं होती और घर में सुख शांति बनी रहती है। लेकिन अगर आपका शुक्र ग्रह कमजोर है तो आपको आर्थिक स्थिति की परेशानी होती है। इसलिए शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी के साथ आपको शुक्र ग्रह की भी पूजा करना चाहिए। और उनके मंत्र का भी जब करना चाहिए।

इस प्रकार करें माता लक्ष्मी और शुक्र ग्रह की पूजा

शुक्रवार के दिन आपको साफ-सुथरे कपड़े पहनना चाहिए। कोशिश करें कि आप इस दिन सफेद रंग का कपड़ा पहने। क्योंकि शुक्र ग्रह की पूजा में सफेद रंग का कपड़ा पहना जाता है। माता लक्ष्मी की पूजा करते समय उनको खीर का भोग लगे और फूल माला अर्पित करके उनकी आरती करें। वहीं शुक्र ग्रह की पूजा करके उनके इन मंत्र ॐ द्रां द्रीं दौं सः शुक्राय नमः का भी जब करें। और अपने घर की सुख शांति के लिए प्रार्थना करें। क्योंकि शुक्र ग्रह की मदद से समाज में यश,कीर्ति और धन की प्राप्ति होती है।

शुक्रवार के दिन इन जाप का करें जाप

माता लक्ष्मी मंत्र

  • ॐ ह्रीं ह्रीं श्री लक्ष्मी वासुदेवाय नम:

  • पद्मानने पद्म पद्माक्ष्मी पद्म संभवे तन्मे भजसि पद्माक्षि येन सौख्यं लभाम्यहम्

  • ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नम:

  • ॐ धनाय नम:

  • ॐ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:

शुक्र ग्रह मंत्र

  • ऊँ ह्रीं श्रीं शुक्राय नम:

  • ऊँ वस्त्रं मे देहि शुक्राय स्वाहाशुक्र एकाक्षरी बीज मंत्र ||

  • ऊँ हिमकुन्दमृणालाभं दैत्यानां परमं गुरुम

  • ऊँ शुं शुक्राय नम

  • ऊँ अन्नात्परिस्रुतो रसं ब्रह्मणा व्यपिबत क्षत्रं पय: सेमं प्रजापति: ।

  • ॐ शुद्धस्फटिकभास्वराय नमः ।

  • . ॐ विविधाभरणोज्ज्वलाय नमः ।

  • ॐ शुभगुणाय नमः ।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.