Ravivaar Mantra: माघ के महीने में सूर्य भगवान के इन मंत्रों का करें जाप, पापों से होगी मुक्ति

सूर्य भगवान को प्रसन्न करने के लिए माघ का महीना बहुत ही खास माना जाता है। इस महीने कुछ खास मंत्रों के जाप करने से ही भगवान प्रसन्न हो जाते है।
Mantra of Suryadev
Mantra of Suryadevwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 4 February 2024: हिंदू धर्म में माघ का महीना काफी पवित्र और शुद्ध माना जाता है। इस पूरे 1 महीने में व्यक्ति भगवान के भजन और कीर्तन में अपना मन लगता है। माघ के महीने में सूर्य भगवान को प्रसन्न करने के लिए कई चमत्कारी मंत्रों का भी उपयोग किया जाता है। कहते हैं की माघ का महीना सूर्य भगवान को प्रसन्न करने के लिए काफी खास महीना होता है।

माघ के महीने में सूर्य भगवान की पूजा करने का महत्व

माघ में सूर्यदेव की पूजा विशेष रूप से करनी चाहिए। इससे व्यक्ति को सभी पापों से छुटकारा मिल सकता है। इतना ही नहीं माघ महीने के रविवार को सूर्य पूजा और व्रत करने से आप की सभी मनोकामना भी पूरी होती हैं। और घर-परिवार में सुख-समृद्धि बढ़ती है। इसलिए उगते हुए सूरज को अर्घ्य अर्पित करने का विधान ग्रंथों में भी बताया है।

माघ महीने के रविवार को सूर्य पूजा करने की विधि

इस दिन आपको सबसे पहले प्रातः काल उठकर गंगाजल में तिल मिलकर स्नान करना चाहिए। स्नान करने के बाद तांबे के लोटे में जल भरें और उसमें लाल फूल, चावल डाल लें। इसके बाद सूर्य को अर्घ्य अर्पित करें।सूर्य पूजा के बाद भगवान विष्णु के माधव रूप की पूजा करनी चाहिए। माघ का महीना भगवान विष्णु को भी समर्पित है बिना विष्णु भगवान की पूजा की है मां के महीना में आपकी पूजा असफल रहती है।

पूजा के दौरान इन मंत्रों का करें जाप

  • ॐ भास्कराय नमः

  • मङ्गलम् भगवान विष्णुः, मङ्गलम् गरुणध्वजः।

    मङ्गलम् पुण्डरी काक्षः, मङ्गलाय तनो हरिः।।

  • ॐ नमोः नारायणाय।।

  • ॐ नमोः भगवते वासुदेवाय।।

  • ॐ हूं सूर्याय नम:

  • ॐ श्री महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्न्यै च धीमहि,

  • तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् ॐ।।

  • ॐ ह्रां हिरण्यगर्भाय नमः

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.