Mantra of Shaniwar: शनिवार के दिन भगवान बजरंगबली के इन मंत्रों का करें जाप

शनिवार के दिन भगवान बजरंगबली की पूजा करने से सारे कष्ट दूर हो जाते है।वहीं आज के दिन भगवान के कुछ चमत्कारी मंत्रों का जाप करके उन्हें प्रसन्न भी किया जाता है।
Mantra of Bajrangbali
Mantra of Bajrangbaliwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 10 February 2024: शनिवार का दिन भगवान शनि देव को समर्पित है। लेकिन आज के दिन भगवान बजरंगबली की भी पूजा की जाती है। आज के दिन भगवान बजरंगबली को सिंदूर और शनिदेव को दिल्ली का तेल अर्पित करने से मनचाहा फल मिलता है। ओर शनि की साढ़ेसाती से हो रहे कष्टों से निवारण होता है। वहीं उनके मंत्रों के जब से आप भगवान को प्रसन्न भी कर सकते हैं।

शनिवार के दिन भगवान बजरंगबली की पूजा करने की विधि

शनिवार के दिन आपको प्रातः काल उठकर स्नान ध्यान करना चाहिए। स्नान करने के बाद आप बजरंगबली के मंदिर जाएं। भगवान को स्नान कर कर उन्हें केवड़ा का इत्र लगे क्योंकि कैमरा का इत्र भगवान को अति प्रिय है। इसके बाद भगवान को सिंदूर और फूल में गुलाब की माला चढ़ाएं। उसके बाद भगवान के पास एक ही और एक तेल का दीपक लगाएं। इसके बाद लड्डू का भोग लगाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें और भगवान की आरती करें। आरती करने के बाद मंदिर में आए हुए परिजनों को प्रसाद बांटे और स्वयं भी ग्रहण करें।

शनिवार के दिन इन जाप का करें जाप

  • मनोजवं मारुततुल्यवेगं, जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठ।

    वातात्मजं वानरयूथमुख्यं, श्रीरामदूतं शरणं प्रपद्ये॥

  • ॐ हं हनुमते नम:

  • ॐ हनुमन्नंजनी सुनो वायुपुत्र महाबल: ।

    अकस्मादागतोत्पांत नाशयाशु नमोस्तुते ।।

  • ॐ महाबलाय वीराय चिरंजिवीन उद्दते ।

  • हारिणे वज्र देहाय चोलंग्घितमहाव्यये ।।

  • ॐ नमो हनुमते रूद्रावताराय सर्वशत्रुसंहारणाय

    सर्वरोग हराय सर्ववशीकरणाय रामदूताय स्वाहा ।।

  • ॐ प्रसन्नात्मने नम

  • ॐ मारुतात्मजाय नमः

  • ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.