Vastu Tips : कब और कैसे काटें अपने नाख़ून , जानिये वास्तु के हिसाब से

Vastu Upay :वास्तु शास्त्र के अनुसार, नाखून काटने के कुछ नियम हैं। इन नियमों का पालन करने से व्यक्ति की कुंडली में शुभ प्रभाव पड़ता है और उसे जीवन में सफलता मिलती है।
Vastu Tips
Vastu Tips www.raftaar.in

नई दिल्ली , 3 सितम्बर 2023 : नाखून हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। ये हमारे हाथों और पैरों की त्वचा को नुकसान से बचाते हैं। नाखूनों का नियमित रूप से काटना जरूरी है, ताकि वे लंबे और खराब न हो जाएँ।

वास्तु शास्त्र के अनुसार, नाखून काटने के कुछ नियम हैं। इन नियमों का पालन करने से व्यक्ति की कुंडली में शुभ प्रभाव पड़ता है और उसे जीवन में सफलता मिलती है।

नाखून कब काटना चाहिए

वास्तु शास्त्र के अनुसार, नाखून काटने के लिए सबसे अच्छा दिन सोमवार होता है। सोमवार का दिन भगवान शिव का दिन होता है, जो हमारे जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते हैं। सोमवार के दिन नाखून काटने से व्यक्ति को मानसिक शांति और आत्मविश्वास प्राप्त होता है।

नाखून काटने के लिए अन्य अच्छे दिन हैं बुधवार और शुक्रवार। बुधवार का दिन भगवान गणेश का दिन होता है, जो हमारे जीवन में सुख-समृद्धि और धन-धान्य प्रदान करते हैं। शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी का दिन होता है, जो हमारे जीवन में सौभाग्य और समृद्धि प्रदान करती हैं।

नाखून क्यों काटना चाहिए

नाखून काटने के कई कारण हैं। सबसे पहला कारण है कि लंबे नाखूनों से बैक्टीरिया और संक्रमण फैलने का खतरा होता है। दूसरा कारण है कि लंबे नाखूनों से हमारे हाथों और पैरों की त्वचा को चोट लग सकती है। तीसरा कारण है कि लंबे नाखून देखने में अच्छे नहीं लगते हैं।

वास्तु शास्त्र के अनुसार, नाखून काटने से व्यक्ति की कुंडली में शुभ प्रभाव पड़ता है। नाखून काटने से व्यक्ति का शरीर स्वस्थ रहता है और उसे जीवन में सफलता मिलती है।

नाखून काटने के कुछ नियम

  • नाखून काटने के लिए हमेशा नया और साफ नाखून काटने का सिक्का या चाकू का प्रयोग करें।

  • नाखून काटते समय ध्यान रखें कि आपके नाखून बहुत छोटे या बहुत लंबे न हों।

  • नाखून काटने के बाद, नाखूनों के टुकड़े को किसी गमले में डाल दें या बहते पानी में बहा दें।

नाखून काटने से हमें कई लाभ मिलते हैं। इसलिए, हमें अपने नाखूनों को नियमित रूप से काटना चाहिए।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.