Vastu Tips: भोजन करने के बाद न करें ये काम वरना हो जाएंगे कंगाल, जानिए क्या कहता है वास्तु शास्त्र?

भोजन करते समय हमें कई चीजों का ध्यान रखना पड़ता है। वरना मां लक्ष्मी हमसे नाराज हो जाती हैं और घर में कई परेशानियों के साथ आर्थिक तंगी भी होने लगते हैं।
Vastu Tips of food
Vastu Tips of foodwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क। 27 February 2024। भोजन में अन्नपूर्णा मां का आशीर्वाद होता है। इसीलिए कभी भी हमें भोजन का अनादर नहीं करना चाहिए बल्कि उसे प्रेम से ग्रहण करना चाहिए। वहीं वास्तु शास्त्र में भोजन से जुड़े ऐसे कई बात बताए गए हैं जिससे आप अभी तक अनजान हैं।

भोजन करते समय ना करें यह गलतियां

अक्सर कई लोग भोजन करने के साथी उसी थाली में हाथ धुल देते हैं ऐसा नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से भोजन का अनादर होता है। भोजन की थाली में हाथ धोने से मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं। इससे व्यक्ति को दरिद्र होने में देर नहीं लगती है। साथ ही ऐसी आदत गरीबी को भी आमंत्रित करती है। इसीलिए ऐसा नहीं करना चाहिए।

कभी-कभी हम देखते हैं कि लोग भोजन करने के बाद तुरंत ही शौच चले जाते हैं ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए। इससे कब्ज, अपच, गैस जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए भोजन के बाद कम से कम 30 मिनट आराम करें। फिर शौच करें।

भोजन के बाद तुरंत काम न करें। तुरंत काम करने से आपको थकान जैसा लग सकता है। इसीलिए थोडा आराम करें। भोजन को पचने दें फिर आप अपना काम करें।

भोजन के बाद आप को सोना नहीं चाहिए। ऐसा करने से भोजन ठीक से पचता नहीं और सेहत खरब हो जाती है।

इन नियमों का रखें ध्यान

आप को कभी भी दक्षिण दिशा की ओर मुख करके भोजन न पकाएं।और ना ही खाएं कहते है की इस दिशा तरफ भोजन से माता पिता का दोष लगता हैं।

भोजन करने के बाद और करने से पहले अन्नपूर्णा को प्रणाम करें। ये प्राथना की की ऐसा ही भोजन हर दिन प्राप्त हो।

भोजन बनाते हुए साफ सफाई का बिल्कुल ध्यान दे। रसोई को साफ सुथरा रखने से भोजन शुद्ध रहता है।

भोजन बनने के बाद और भोजन करने के बाद जूठे बर्तन नहीं रखना चाहिए। ऐसा करने से घर से लक्ष्मी चली जाती हैं।और पैसों की तंगी हो जाती है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.