Vastu Tips: घर में घंटी लगाने के ये फायदे नहीं जानते होंगे आप, वास्तु शास्त्र में लिखी है ये बात

घर में मंदिर की घंटी रखने से घर में पॉज़िटिव एनर्जी आती है।
Vastu Tips for Bell
Vastu Tips for Bellwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 4 January 2024 : हमारे जीवन में वास्तु शास्त्र का बहुत महत्व है वास्तु शास्त्र के सही नियम को अपनाकर हम अपना जीवन सुख शांति से व्यतीत कर सकते हैं। घर की हर एक चीज़ के बारे में वास्तु शास्त्र का अलग-अलग नियम है। लेकिन क्या हम जानते हैं की पूजा घर में भी ऐसी कई सारी वस्तुएं होती हैं वास्तु शास्त्र के हिसाब से उनका सही उपयोग करके हमें सफलता प्राप्त होती है।

घंटी बजाने से प्राप्त होगा धन

मान्यताओं के अनुसार, घंटी बजाने से देवी-देवताओं में चेतना जागती है और उनका ध्यान पूजा करने आए भक्तों की ओर आकर्षित होता है। घंटी बजाने से वातावरण में कंपन पैदा होता है और इस कर्णप्रिय कंपन ध्वनि से वातावरण में पॉजिटिव एनर्जी का संचार होता है। कहा जाता है जहां तक घंटी की ध्वनि जाती है वहां सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ता है। और भगवान की आप पर कृपा होने के कारण आपको धन और सुख शांति की कमी नहीं होती।

घंटी बजाने का सही नियम

घंटी बजाने के कई नियम हैं। इसमें सबसे जरूरी नियम है कि घंटी को जोर से कभी नहीं बजाना चाहिए। अगर आप पूजा की नियत से मंदिर में प्रवेश कर रहे हैं तो ऐसी परिस्थिति में जोर से घंटी बजाना आपके अंदर मौजूद भक्ति भाव को नाश कर सकता है।घंटी को लगातार नहीं बजाना चाहिए एक बार में दो से तीन बार ही घंटी बजानी चाहिए। ऐसी मान्यताएं हैं कि जब आप मंदिर से पूजा करने जाएं तब वापस लौटते समय घंटी नहीं बजाना चाहिए।

घर के इस दिशा में नहीं रखना चाहिए घंटी

घर के पूजा घर में मंदिर की घंटी को ऐसे जगह पर रखना चाहिए कि आप उसे सीधे हाथ से उठा पाओ।घंटी को हमेशा दांये या सीधे हाथ से ही बजाना चाहिए। उल्टे हाथ से बजाने से नकारात्मक परिणाम मिलने लगते हैं। वहीं कहते हैं कि मंदिर की घंटी को दक्षिण दिशा की तरफ नहीं रखना चाहिए। ऐसा करने से घर में निगेटिव एनर्जी का प्रभाव पड़ता है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.