Vastu Tips: बाल और नाखून कटवाने से उम्र घाटने का क्या है राज,जानिए क्या कहता है वास्तु शास्त्र

हम अपनी जिंदगी में काफी व्यस्त रहते हैं।और हमें जिस दिन समय मिलता है हम अपने नाखून बाल और कटवाने लगते हैं। लेकिन क्या हम जानते हैं कि वास्तु शास्त्र के हिसाब से किस दिन बाल और नाखून को काटना चाहिए।
Do not cut hair and nails on this day
Do not cut hair and nails on this day www.raftaar.in

नई दिल्ली,रफ्तार डेस्क 13 December 2023: हिंदू धर्म के अनुसार से हमें अक्सर बाल और नाखून काटने पर रोका-टोका जाता है जैसे हर काम के लिए वास्तु शास्त्र में नियम बताए गए हैं वैसे ही बोल और नाखून काटने के लिए भी वास्तु शास्त्र में एक अलग नियम बताया है। हम अक्सर किसी भी दिन अपने बाल और नाखून को कटवाते रहते हैं लेकिन हमें यह पता नहीं होता कि हम जो गलती कर रहे हैं। इससे न केवल हम बल्कि हमारा पूरा परिवार भी परेशानी में आ सकता है।

इस दिन बाल और नाखून कटवाने से कम हो जाती है उम्र

ऐसी मान्यताएं हैं कि मंगलवार को नाखून या बाल बिल्कुल नहीं कटवाना चाहिए। क्योंकि मंगलवार का दिन हनुमान जी का होता है। और ज्‍योतिषीय के अनुसार मंगलवार का संबंध मंगल ग्रह से होता है। मंगल को स्‍वभाव से काफी उग्र माना जाता है और इन्‍हें साहस और पराक्रम का कारक माना जाता है। मंगलवार मंगलवार के दिन बाल और नाखून कटवाने से आपके अंदर क्रोध जागृत होता है और वह काफी बढ़ जाता है। इसके साथ यह माना जाता है कि मंगलवार को नाखून या बाल काटने से आपकी उम्र भी कम होती हैं। वहीं शनिवार को भी बाल और नाखून काटना काफी अशुभ माना जाता है।कहते हैं इस दिन यह काम करने से अकाल मृत्‍यु की आशंका बढ़ती है और धन की हानि होती है। इस दिन बाल या दाढ़ी बनवाने से पितृ दोष भी लगता है।

बाल और नाखून काटने का सही दिन

वास्तु शास्त्र के हिसाब से बाल और नाखून काटने का दिन शुक्रवार का होता है। अगर आप शुक्रवार को बाल और नाखून काटोगे तो या काफी शुभ माना जाता है। इस दिन का संबंध सिद्ध लक्ष्मी जी से होता है कहते हैं कि उसे दिन बाल काटने से आपको काफी सफलता मिलती है। और धन, यश,कीर्ति और वैभव का लाभ होता है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.