Vastu Tips: चैत्र नवरात्रि की दुर्गा अष्टमी पर वास्तु की इन बातों का रखें ध्यान, सदा बना रहेगा आपका घर संसार

चैत्र दुर्गा अष्टमी के दिन माता महागौरी की पूजा अर्चना होती है। वास्तु के अनुसार इस दिन माता की पूजा अर्चना नियम से करने से राहु दोष से भी छुटकारा पाया जा सकता है।
Vastu Tips of Navratri 2024
Vastu Tips of Navratri 2024www.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क। 16April 2024। नवरात्रि की अष्टमी के दिन की गई पूजा का बहुत महत्व होता है इस दिन वास्तु शास्त्र की कुछ बातों का ध्यान रखकर अगर आप माता की पूजा करते हैं तो आपके घर से राहु दोष और कई नकारात्मकता ऊर्जा से छुटकारा मिल जाता है। और आपके घर परिवार पर माता रानी की सदैव कृपा बनी रहती है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर ले लिए ये चीजें

मोर का पंख हमेशा घर में सकारात्मक लाता है। इसीलिए अगर आप दुर्गा अष्टमी के दिन मोर पंख घर ले आते हैं तो शांति बनी रहेगी।लड़ाई-झगड़े से दूरी बनेगी।घर पर माता दुर्गा की विशेष कृपा बरसेगी।

अगर आप नवरात्रि की दुर्गा अष्टमी के दिन मिट्टी का बर्तन घर ले आते हैं तो माता दुर्गा की कृपा मिलती है। घर में सुख-शांति का वास होता है। खुशहाली बनी रहती है। कभी भी आपको आर्थिक तंगी का सामना नहीं करना पड़ता।

राहु दोष से मिलेगा छुटकारा

अगर आपकी कुंडली में राहु दोष है तो उसे दूर करने के लिए नवरात्रि में माता महागौरी की पूजा विशेष रूप से करनी चाहिए। उन्हें गुलाबी और लाल रंग के पुष्प चढ़ाकर अपने कष्टों को काटने के लिए प्रार्थना करना चाहिए।

इस रंग के न पहनें कपड़े

नवरात्रि की अष्टमी तिथि के दिन सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर और स्नान आदि से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र पहनेंगे। ध्यान रखें कि इस दिन नीले और काले रंग के कपड़े बिल्कुल ना पहनें। इस रंग के कपड़े पहनने से माता रानी रूठ जाती है।

अष्टमी के दिन दूर करें नकारात्मकता

घर से नकारात्मकता दूर करने के लिए अष्‍टमी के दिन माता रानी की पूजा अर्चना करें और कपूर से उनकी आरती उतारे आरती उतारने के बाद आरती को पूरे घर में दिखाएं और माता रानी से घर में शांति बनी रहने की कामना करें।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.