Vastu Tips: बाथरूम में भूलकर भी ना रखें यह चीजें, जानिए वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम की सही दिशा

हमारे जीवन में वास्तु शास्त्र का बहुत महत्व है। हमारे घर में ऐसी कई चीजें होती हैं। जिसके गलत जगह होने के कारण हमें उसका गलत प्रभाव मिलता है।
Don't keep these things in the bathroom
Don't keep these things in the bathroomwww.raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क 10 December 2023 हमारे घर में ऐसी कई चीज होती है।जिसका गलत और सही दोनों प्रभाव पड़ता है। वहीं, अगर हम घर के बाथरूम की बात करें तो घर में बाथरूम एक अलग और काफी जरूरी जगह होती है। हम अपना घर तो साफ कर लेते हैं लेकिन अधिकतर हम अपने बाथरूम को गंदा ही छोड़ देते हैं। जबकि वास्तु शास्त्र में बाथरूम से जुड़ी कई सारी ऐसी बातें हैं जिनको जानना आपके लिए काफी महत्वपूर्ण है।

भूल कर भी ना रखें बाथरूम में यह चीजें जरुरी

बाथरूम में कुछ ऐसी चीजें होती है जिन्हें वास्तु शास्त्र के हिसाब से रखना काफी अशुभ माना जाता है। बाथरूम हमेशा ऐसी जगह होना चाहिए जहां पर लाइट या उजाला हो सके क्योंकि बाथरूम में अंधेरा रखना काफी अशुभ माना जाता है। बाथरूम में साफ सफाई न केवल वास्तु दोष बल्कि अपने स्वच्छता के लिए भी साफ सफाई का अधिक ध्यान देना चाहिए बाथरूम को गंदा छोड़ने से घर में अशांति का माहौल बना रहता है। वहीं, बाथरूम किस कलर का होना चाहिए यह भी वास्तु शास्त्र में बताया गया है। बाथरूम का कलर सफेद रंग सबसे अच्छा माना जाता है, इसलिए इसमें सफेद रंग की टाइल्स लगवाएं। इसके अलावा आप हल्के रंग जैसे लाइट पीला, हरा आदि का भी प्रयोग कर सकते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम में नीले रंग की बाल्टी और मग रखना शुभ माना जाता है। इससे घर में बरकत होती है।

इस दिशा में बनवाए बाथरूम

वास्‍तु शास्‍त्र में बॉथरूम बनाने की सही दिशा बताई गई है। यदि गलत दिशा में बॉथरूम बना लिया जाए तो जीवन में कई परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं।कभी भी उत्तर-पश्चिम दिशा में बॉथरूम न बनवाएं। क्योंकि यह दिशा भगवान कुबेर की होती है। इसके साथ ही इस दिशा से सबसे अधिक सकारात्मक ऊर्जा निकलती है। बॉथरूम दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम दिशा में बनाना सबसे अच्‍छा होता है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करेंwww.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.