Vastu Tips : इस दिशा में ना बनवाए घर की खिड़की, जानिए क्या कहता है वास्तु शास्त्र

वास्तु शास्त्र का एक अलग महत्व है हमारे घर में ऐसी कई चीज होती है जो गलत होती है। अगर वह वास्तु शास्त्र के हिसाब से सही हो तो हमारे जीवन में कोई परेशानी नहीं आती।
Vastu Tips
Vastu Tipswww.rafatar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 9 December 2023 : हिंदू धर्म के अनुसार वास्तु शास्त्र की काफी मान्यताएं हैं। अगर घर में कोई भी चीज वस्तु के हिसाब से गलत है तो उसका गलत प्रभाव पड़ता है। और उसे जल्द से जल्द बदलकर ठीक कर लेना चाहिए। क्योंकि वास्तु दोष लगने पर घर की सुख शांति खत्म हो जाती है। घर में नकारात्मकता और दुख का प्रवेश होता है। अगर आप भी घर बनवा रहे हैं तो इस दौरान भूलकर भी घर की इस दिशा में खिड़की न बनवाएं।

जानिए घर में खिड़की बनवाने की सही दिशा

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में कभी भी दक्षिण दिशा में खिड़कियां नहीं बनवानी चाहिए।क्योंकि दक्षिण को यम की दिशा माना गया है। दक्षिण दिशा की खिड़कियां घर में रोग और शोक का बड़ा कारण बनती हैं। वहीं, अगर आपके घर में दक्षिण दिशा में खिड़की हो तो घबराइए नहीं वास्तु शास्त्र में ऐसे कई उपाय हैं। जिसको करके आप वास्तु दोष से मुक्त हो सकते हैं। अगर इस दिशा में खिड़की है तो उसे अक्सर बंद करके रखें और खिड़की के पीछे एक मोटा पर्दा लगा ले। जिसके आपके घर को बुरी नजर नहीं लगेगी।

घर के अंदर की तरफ खुलनी चाहिए खिड़की

खिड़की की दिशा के साथ उसके खुलने के बारे में भी वास्तु शास्त्र में बताया गया है। घर की खिड़कियां अंदर की तरफ खुलना सही होता है। यह घर में सुख शांति को बढ़ाते हैं। वहीं खिड़कियों के बाहर से खुलने पर नकारात्मकता आती है। खिड़कियों का आवाज करना भी अच्छा नहीं होता है।यह घर में क्लेश और दरिद्रता लाता है। इसीलिए घर में अगर खिड़की खोले तो उसे ज्यादा तेज से ना खोलें।और खिड़कियों को हमेशा साफ-सुथर रखना चाहिए। खिड़कियां टूटी हुई या गंदी नहीं रखनी चाहिए।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करेंwww.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.