Vastu Tips: इस फूल को लगाने से बरसेगी घर में अपार दौलत, प्रसन्न होंगे शनि देव

हम अपने घर में कई सारे पेड़ पौधे लगाते हैं पर क्या हम जानते हैं कि उन पेड़ पौधों से वास्तु शास्त्र का क्या कनेक्शन होता है।
This flower will bring money to the house
This flower will bring money to the houseSocial Media

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क 14 December 2023 हिंदू धर्म में वास्तु शास्त्र का बहुत महत्व है हर चीज वास्तु शास्त्र के हिसाब से करने पर आपके जीवन से सभी कष्ट कट जाता है। लेकिन क्या हम जानते हैं कि ऐसे कुछ फूल और पौधे भी हैं। जिनको घर में लगाने से न केवल हमारा घर का वास्तु दोष अच्छा रहता हैं बल्कि शनिदेव और मां लक्ष्मी की अपार कृपा भी हमारे घर में होती है। देवी देवताओं की पूजा करने के लिए उनको तरह-तरह के रंग बिरंगी फूल अर्पित करते हैं। देवी देवताओं को कुछ फूल-पौधे विशेष रूप से प्रिय होते हैं। इनमें से एक है अपराजिता का फूल। इसे फूल को विष्णुकांता फूल भी कहा जाता है। इस फूल की खास बात यह है कि ये भगवान विष्‍णु और शनि देव दोनों को ही अति प्रिय है। अपराजिता का फूल भगवान विष्‍णु और शनि देव को चढ़ाने से उनकी विशेष कृपा प्राप्त होती है।

अपराजिता के फूल से प्रसन्न होते हैं शनिदेव

वास्तु शास्त्र में शनि देव को प्रसन्न करने के कई तरीके बताए गए हैं। लेकिन उनमें से सबसे खास तरीका हैं अपराजिता के फूल से शनि शनिदेव को प्रसन्न करना। शनि देव को नीले अपराजिता के फूल बहुत पसंद हैं। शनि देव को प्रसन्न करने के लिए अपराजिता के फूल बहुत उपयोगी माने जाते हैं। ऐसी मान्यता है कि शनिवार को अगर शनि देव को अपराजिता का फूल चढ़ाने से शनि देव अत्यंत प्रसन्न होते है।और आप को सुख-समृद्धि का आशीर्वाद मिलता है।

अपराजिता के फूल से मां लक्ष्मी की होती है अपार कृपा

अपराजिता के फूल को भगवान विष्णु और लक्ष्मी माता को भी चढ़ाना चाहिए। इस फूल को चढ़ाने से माता लक्ष्मी अत्यंत प्रसन्न होती हैं। आपको बता दें कि अपराजिता का फूल सफेद और नीले रंग में ही मिलता है लेकिन आप हमेशा घर में नीले रंग के ही अपराजिता के फूल लगे क्योंकि यह घर के वास्तु दोष को शुद्ध करता है। अगर प्रत्येक व्यक्ति शनिवार और सोमवार 3 दिन लगातार इस फूल को बहते हुए पानी में डालता है तो उसके घर में सुख शांति हमेशा बनी रहती है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.