Vastu Tips: वास्तु के इन उपायों से दूर होगी आर्थिक तंगी, मां लक्ष्मी की बरसेगी कृपा

वास्तु शास्त्र हमारे जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। उसमें बताई गई बातों से हम अपने घर में चल रही आर्थिक तंगी को भी दूध भागा सकते हैं।
Vastu Tips of Financial constraints
Vastu Tips of Financial constraintswww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क। 3 April 2024। अगर आपके घर में वास्तु दोष है तो आप की तरक्की रुक जाती है।इसके साथ घर में आर्थिक तंगी और दरिद्रता अपना डेरा जमा लेती है। इन सबको दूध भगाने के लिए आपको वास्तु के कुछ नियमों का पालन करना चाहिए।

आर्थिक तंगी से छुटकारा पाने के लिए वास्तु के अनोखे नियम

घर के उत्तर दिशा में देवी लक्ष्मी की ऐसी तस्वीर लगानी चाहिए जिसमें वह कमलासन पर विराजमान हों और स्वर्ण मुद्राएं गिरा रही हों। ऐसी तस्वीर लगाने से घर मे मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

सूर्या यंत्र

घर के पूर्व दिशा में आपको सूर्या यंत्र लगाना चाहिए। ऐसी मानता हैं कि सूर्य यंत्र लगाने से घर में सकारात्मक बनी रहती है और आर्थिक तंगी दूर भागती है।

पक्षियों को दाना

आर्थिक स्थिति को ठीक करने के लिए रोजाना छत पर पक्षियों को दाना दें। ऐसा करने से घर में मौजूद सभी प्रकार के वास्तु दोष दूर हो जाते है। और घर में सुख शांति रहती होती है।

कपूर

अगर आपके घर में आर्थिक तंगी लगातार बढ़ते जा रही है, तो सुबह शाम कपूर जलाकर भगवान की पूजा अर्चना करें और वहीं, कपूर घर के द्वार पर भी दिखाएं।

शंख

घर की पूजा स्थान में शंख रखना बहुत शुभ माना जाता है। कहते हैं जिस घर में शंख होता है उस घर में आर्थिक तंगी जल्द से जल्द दूर हो जाती है। और देवी देवताओं की उस घर में कृपा बनी रहती है।

नारियल

जिस घर में नारियल होता है उस घर में मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। क्योंकि ऐसी मान्यता है कि नारियल में मां लक्ष्मी का वास होता है। इसीलिए हर पूजा और व्रत में नारियल का उपयोग करना काफी लाभदायक होता है।

शीशा

घर में कभी भी गोलाकार वाला शीशा नहीं लगाना चाहिए। साथ ही शीशे के सामने शीशा भी नहीं लगाना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से घर में आर्थिक तंगी बढ़ती है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.