Vastu Tips: माघ के महीने में न करें ऐसा काम वरना हो जाएंगे कंगाल, जानिए क्या कहता है वास्तु शास्त्र

माघ का महीना शुरू होते ही भगवान विष्णु, ब्रह्मा और कृष्ण की पूजा अर्चना होने लगती है। लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार कुछ ऐसे नियम है जिनका नहीं अपने से आपको कई नुकसान भी पहुंच सकता है।
Vastu Tips of month of Magh
Vastu Tips of month of Magh www.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 26 January 2024: माघ का महीना बहुत ही पवन और शुभ होता है। भगवान की कृपा आप पर बनी रहती है। लेकिन वास्तु के हिसाब से कई ऐसे काम और नियम है। जिनको सही ढंग से ना किया जाए तो इसका परिणाम भी उल्टा पड़ता है।

माघ के महीना में इन नियमों का करें पालन

अगर आप कर्ज में डूबे हुए हैं और काफी मेहनत करने के बाद भी कर्ज से मुक्त नहीं हो पा रहे हैं। तो यह मांग का महीना आपके लिए काफी अच्छा होगा। क्योंकि मग में भगवान कृष्ण के लिए प्रतिदिन मधुराष्टक का पाठ करने से कर्ज से मुक्ति मिलती है और ग्रह और वास्तु दोष खत्म होते है।

अगर आपके घर में हर दिन क्लेश और अशांति का माहौल बना रहता है। माघ के महीने में तुलसी मां की पूजा करनी चाहिए। खाने में मांस मछली का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से आपका मन शुद्ध रहता है। इसलिए घर में सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है।

माघ के महीने में आर्थिक तंगी से छुटकारा पाने का काफी अच्छा उपाय है।इस पूरे मास में तिल और गुड़ का इस्तेमाल करने से आर्थिक समस्या दूर होती है और स्वास्थ लाभ मिलता है।

अगर आपकी विवाह में बाधा आ रही है और जिनका विवाह हो गया है उनको संतान की प्राप्ति नहीं हो रही हैं। भगवान विष्णु के सहस्त्रनाम का पाठ और गीता का पाठ करने से इन सभी परेशानियों से छुटकारा मिलता है।

माघ के महीना में भूलकर भी मूली का सेवन नहीं करना चाहिए अधिकतर लोग स्वाद के लिए मूली का सेवन करते हैं। इतना ही नहीं बल्कि अगर आप माघ के महीना में झूठ कपट मन में रखते हैं तो आपके घर से लक्ष्मी दूर हो जाती है और घर में दरिद्रता बनी रहती है। वास्तु शास्त्र के हिसाब से इस महीने ज्यादा सोना भी नहीं चाहिए।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.