Gemstone: कुंडली में ग्रहों को मजबूत करने के लिए धारण करें ये रत्न, सफलता के साथ बढ़ेगा आत्मविश्वास

Gemstone: इन रत्नों का संबंध ग्रहों से भी होता है। इसी कारण से अलग-अलग ग्रहों की शांति के लिए अलग-अलग रत्न धारण किए जाते हैं।
Gemstone
Gemstone

नई दिल्ली,रफ्तार डेस्क। Gemstone : रत्न शास्त्र में रत्नों का  विशेष महत्व बताया गया है। रत्नों का मनुष्य पर अलग-अलग प्रभाव पड़ता है। ऐसी स्थिति में, ज्योतिषी द्वारा आपकी कुंडली का विश्लेषण करने के बाद ही रत्न को धारण करना चाहिए। इन रत्नों का संबंध ग्रहों से भी होता है। इसी कारण से अलग-अलग ग्रहों की शांति के लिए अलग-अलग रत्न धारण किए जाते हैं। आइए जानते हैं कि किन रत्नों को धारण करने से जातक को विशेष लाभ प्राप्त हो सकता है।

सूर्य रत्न

अगर कुंडली में सूर्य की स्थिति खराब हो तो इसका नकारात्मक प्रभाव वैवाहिक जीवन और संतान पर पड़ सकता है। इन प्रतिकूल प्रभावों को दूर करने के लिए माणिक्य धारण करना चाहिए। जब सूर्य अपनी राशि से 8वें, 11वें या 7वें भाव में हो या 2, 9वें या 5वें भाव का स्वामी होने के कारण 6ठे या 8वें भाव में हो या 12वें भाव में हो तो माणिक धारण करें।

बिजनेस की सफलता के लिए रत्न

हेसोनाइट गार्नेट को दालचीनी पत्थर भी कहा जाता है। यह व्यक्ति को व्यवसाय में सफल होने में मदद करता है। हेसोनाइट गार्नेट पहनने से आपको मन की अविश्वसनीय शांति और मनोवैज्ञानिक चिंता से मुक्ति का अनुभव होगा।

पन्ना रत्न

पन्ना रत्न का संबंध बुध ग्रह से माना जाता है। बुध को संचार, बुद्धि और शिक्षा का ग्रह माना जाता है, इसलिए यह रत्न मानव बुद्धि और सीखने की क्षमता में योगदान देता है। इसे पहनने से करियर में सफलता मिलती है।

सोडालाइट रत्न

सोडालाइट रत्न बुद्धि, ज्ञान, संचार और साहस से जुड़े हैं। यह रत्न व्यक्ति के आत्मविश्वास को बढ़ाता है और उन्हें मजबूत बनाता है। सोडालाइट का उपयोग मन को शांत करने के लिए किया जाता है। यह तर्कसंगत सोच और निष्पक्षता की अवधारणा को बढ़ावा देता है।

Related Stories

No stories found.