इंडिया में जंगल ट्रैकिंग के लिए बेस्ट है ये जगह, हर पल करेंगे एंजाॅय

Anzar Hashmi

ऐसे बहुत से लोग रहते हैं जिन्हें एडवेंचर्स एक्टिविटीज करना काफी पसंद आता है। वे नेचर के करीब रहना चाहते हैं और एक अलग एक्सपीरियंस के लिए खोज करते हैं।

Travel Tips | Pixabay

अकसर ऐसे लोग ट्रैकिंग को काफी पसंद करते हैं। अमूमन यह देखने में आता है कि लोग माउंटेन ट्रैकिंग को लेकर योजना बनाते हैं। लेकिन अगर आप चाहें तो जंगल ट्रैकिंग का फायदा ले सकते हैं।

Travel Tips | Pixabay

कुंजखरक ट्रेक पंगोट से शुरु होता है। जो हिमालय की तलहटी में कॉर्बेट के पास मौजूद है। यह ट्रैकिंग ट्रेल उन लोगों के लिए बेहतर है। जो अपने आसपास बहुत अधिक भीड़ देखना नहीं पसंद करते और शांति से ट्रैकिंग करते हैं।

Travel Tips | Pixabay

यूं तो कान्हा नेशनल पार्क मध्यप्रदेश में स्थित एक नेशनल पार्क है। इसमें मेमल्स की लगभग 22 प्रजातियां मौजूद हैं। अमूमन यहां पर आने वाले पर्यटक इन वन्यजीवों को उनके नेचुरल हैबिटेट में देखना चाहते हैं।

Travel Tips | Pixabay

अगर आपने अभी-अभी ट्रैकिंग शुरु किया है तो आप केरल के चेम्बरा ट्रेक पर ट्रैकिंग कर सकते हैं। बिगनर्स के लिए इसे एक अच्छा ट्रेक है। चेम्बरा ट्रेक समुद्र तल से 2100 मीटर की ऊंचाई पर मौजूद है।

Travel Tips | Pixabay

पाली वॉटरफॉल ट्रैक गोवा का नाम सुनते ही समुद्र की लहरे और खूबसूरत समुद्रतट, पार्टियां भी याद रहती है। लेकिन गोवा में इससे अधिक काफी कुछ मौजूद है। पाली वॉटरफॉल को शिवलिंग झरने के नाम से भी मशहूर है।

Travel Tips | Pixabay

उत्तराखंड के जिम कोर्बेट में सीताबनी ट्रैक भी बिगीनर ट्रैकर्स और ट्रैवलर्स के लिए काफी खास है। इस ट्रैक की शुरुआत सीताबनी मंदिर से करते हैं। सीताबनी मंदिर से भोला मंदिर घने जंगलों में 8 से 9 किमी की दूरी पर मौजूद है।

Travel Tips | Pixabay

तमिलनाडु के मुदुमलई नेशनल पार्क को लेकर सभी जानते हैं। जंगल ट्रैकिंग के लिए इससे बेहतर जगह नहीं हो सकती। एडवेंचर प्रेमियों और एड्रेनलाइन जंकियों के बीच ये काफी लोकप्रिया है। यहाँ पर आपको रहने के लिए हॉस्‍टल, होटल, रिजॉर्ट और गांव के घरों में रहने की सुविधा मिलती है।

Travel Tips | Pixabay