Tata Motors DVR: अगर आपके पास है टाटा मोटर्स DVR तो जानिए नए फैसले के बारे में

Raftaar Desk ASI-1

सबसे पहले टाटा मोटर्स डीवीआर के बारे में जानते है। साल 2008 में टाटा मोटर्स ने डीवीआर जारी किए। अगर आसान शब्दों में कहें तो DVR यानी डिफ्रेंशियल वोटिंग राइट्स होते है।

TATA Motors | Social Media

DVR किसी भी दूसरे शेयर की तरह ही होता है, लेकिन इसमें शेयरधारक को वोटिंग का अधिकार कम होता है। कुछ इस तरह समझिए- Tata Motors DVR में 10 शेयरों पर 1 शेयर का वोटिंग राइट्स है, लेकिन डिविडेंड आम शेयरों से 5% अधिक है।

TATA Motors | Social Media

 DVR में संस्थागत और रीटेल दोनों तरह के निवेशक निवेश कर सकते हैं। दुनियाभर में आमतौर पर DVR 25-30% के डिस्काउंट पर कारोबार करता है।

TATA Motors | Social Media

भारतीय बाज़ारों में जानकारी के अभाव के चलते DVR पर डिस्काउंट करीब 40-45% है.टाटा मोटर्स का डीवीआर मंगलवार को 4.29 फीसदी बढ़कर 373 रुपये के भाव पर बंद हुआ।

TATA Motors | Social Media

कंपनी वोटिंग राइट्स खोए बिना रकम जुटा सकती है। बड़े प्रोजेक्ट्स की फंडिंग करने में आसानी होती है। कंपनी को ओपन ऑफर या जबरन ख़रीद का डर नहीं होता है।

TATA Motors | Social Media

कंपनी के 10 Tata Motors DVR शेयर पर Tata Motors के 7 शेयर जारी करने का फैसला लिया है। इसका मतलब साफ है कि टाटा मोटर्स अब DVR को 'टाटा' कर रही है।

TATA Motors | Social Media

DVR शेयर साधारण शेयरों में बदले जाएंगे। DVR शेयर एक्सचेंज से हटेंगे. DVR 23% प्रीमियम पर वापस होंगे।

TATA Motors | Social Media

टाटा मोटर्स DVR की मार्केट वैल्यू करीब 19000 करोड़ करोड़ रुपये है। एयूएम कैपिटल के रिसर्च हेड राजेश अग्रवाल का कहना है कि टाटा मोटर्स का ये फैसला निवेशकों के लिए फायदेमंद है।

TATA Motors | Social Media